income tax refund kaise claim kare tds refund full guide

income tax refund kaise claim kare tds refund full guide 



आज के समय में सब कुछ online होता जा रहा है। जिसकी वजह से कुछ लोगो की सुविधाएं बढ़ी है। वही जानकारी के अभाव में कुछ लोगों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। google में अक्सर लोग search करते रहते है। income tax kya hai, income tax return kaise file kare, यूसी न्यूज़ tds refund kaise claim kare, income tax return kaise bhare, income tax kya hota hai, tds kyo deduct hota hai, इन सभी प्रश्नों के जबाब आपको इस पोस्ट में मिलने वाले है। इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।



सबसे पहले हम हम लोग जान लेते है। income tax या tds क्या होता है। आप कमाते हैं तो सरकार जल्दी से जल्दी आप से income tax वसूल कर लेना चाहती है। salaried person को टैक्स प्रतिमाह TDS के रूप में देना होता है। तो self employed और businessman को हर तीन महीने में income tax return भरना पड़ता है। सरकार की कोशिश होती है कि आप जैसे ही पैसे earn करें तुरंत tax भर दें। लेकिन अगर आपने ज्यादा टैक्स भर दिया है और अब उस tax का refund लेना चाहते है।  तो आपको income tax refund file करनी पड़ती है।
income tax refund kaise claim kare   tds refund full guide



INCOME TAX या TDS REFUND क्या है? What is Income Tax Refund?


जैसा कि इसके नाम से ही clear है, Income Tax Refund का मतलब है, इनकम टैक्स की वापसी। और इनकम टैक्स की ये वापसी तब होती है जब आपने excess income tax का payment किया है। यानि ज्यादा टैक्स भर दिया। या आपका tax कट चुका है। जबकि income tax के rule के अनुसार आपको tax pay नही करना था।


कब करें रिफंड का दावा| When do you Get Refund?

सामान्य रूप से इन चार स्थितियों में Income Tax Refund Claim की गुंजाइश बनती है।

आपका tds ज्यादा कट गया हो- इसमें आपकी सैलरी से जुड़ा टीडीएस हो सकता है। bank deposits या bonds, dividends पर मिले ब्याज से जुड़ा टीडीएस भी हो सकता है।
ज्यादा advance tax जमा किया हो- एडवांस टैक्स अनुमान के आधार पर जमा किया जाता है ऐसे में कई बार अगर आमदनी बाद के महीनों में घट जाती है तो टैक्स वापस पाने की स्थिति बन जाती है।

tax saving के उपाय का सबूत नहीं दिया हो– ऐसा हो सकता है कि आप समय रहते किसी tax-saving investment का प्रमाण जमा करना भूल गए हों। जिसकी वजह से आपके employer ने ज्यादा टैक्स काट लिया हो।

विदेश में tax जमा हो-  कोई आमदनी जिस पर आप ​किसी दूसरे देश में टैक्स pay चुके हों और भारत के साथ उस देश का double-taxation न होने का करार हो।

कौन कर सकता है रिफंड का क्लेम| 

Taxpayer स्वयं टैक्स refund के लिए claim कर सकता है। उसकी अक्षमता या मौत की स्थिति में उसका कानूनी वारिस या guardian भी claim कर सकते हैं। Taxpayer की ओर से  Athourised representative या trustee भी ऐसा कर सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए income tax एक्ट के Sections 237 से लेकर 245 तक को read किया जा सकता है। इनमें टैक्स रिफंड के ​बारे में सभी rule दिए गए हैं।


कैसे करें tds या income tax का क्लेम| How to Claim Income Tax Refund?

यदि आप income tax refund के दावेदार हैं तो income tax return e-filing करते समय इसके लिए claim कर सकते हैं। अगर return file करते समय कोई गलती हो गई है तो भी revised return के रूप में एक निश्चित अवधि तक claim request के लिए मौका मिलता है।  E-filing system आपके दावे को online ही verify करता है। दरअसल tax return file करते समय जब आप अपना पूरा हिसाब-किताब और tax payment की जानकारी देते हैं तो system अपने आप बता देता है कि आपके ऊपर कोई टैक्स बनता है या रिफंड बनता है। Income tax return e-filing के एक महीने के अंदर रिफंड आपके बैंक खाते में पहुंच जाता है।

आप कैसे प्राप्त करें टीडीएस रिफंड| How do you get Refund payment

Refund payments आपके पास दो तरीकों से पहुंचता है।

1.सीधेआपके बैंक खाते में| Direct Credit to Bank Account

Income Tax Department ECS or NEFT के द्वारा टैक्स refund आपके बैंक खाते में भेज देता है। Online income tax return file करते समय आपने जो bank account नंबर भरा होता है उसी खाते में पैसा जाता है।  e-filing system शुरू होने के बाद ज्यादातर Refund payment सीधे बैंक खाते में ही credit होते हैं

2.आपके पते पर चेक या डिमांड ड्राफ्ट| Cheque or Demand Draft

कुछ विशेष स्थितियों में, Income Tax Department आपके पते पर speed post से उस income का cheque या demand draft  भेजता है। Income tax return file करते समय जो पता आपने भरा होता है, tax डिपार्टमेंट उसी पते का इस्तेमाल होता है।

Note1: अगर previous assessment year में आपके उपर इनकम टैक्स की कोई देनदारी निकल रही है तो इसे आपके refund amount में से काटकर, बची रकम ही आपको भेजी जाएगी। इनकम टैक्स एक्ट के Section 245 के अनुसार Tax Department आपको इस संबंध में सूचना (intimation) भी भेजता है। जो आपके ईमेल पर आती है।

Note2: अगर आपको रिफंड की जाने वाली रकम आपके particular assessment year की total देनदारी से 10 प्रतिशत अधिक है तो विभाग आपको इस refund की रकम पर ब्याज भी देता है। रिफंड पर ब्याज की दर 6% (simple interest basis) होती है। यहां यह ध्यान रखें कि यह ब्याज भी आपकी अगले साल की Income का हिस्सा होगा, जिस पर आगे चलकर आपके Tax Slab के अनुसार टैक्स भी लगेगा।

3- कैसे चेक करें income या tds का स्टेटस| How to Check Refund Status?

आप Income Tax Department की website पर जाकर बहुत आसानी से कुछ ही step में अपने Income Tax Refund Status online चेक कर सकते हैं। इसके दो तरीके हैं।

पहला तरीका

NSDL website के इस वेब एड्रेस (https://tin.tin.nsdl.com/oltas/refundstatuslogin.html) पर ​​जाएं।

अपना Permanent Account Number (PAN) भरें।
उस financial year or the assessment year को चुनें, जिसके ​लिए आप अपना income tax refund status चेक करें।

जैसे ही ये दोनों information भरकर आप enter करते हैं ये आपको refund status के पेज पर ले जाता है।

दूसरा तरीका

आप अपने income tax e-filing account पर जाइए। अपने PAN number और password की मदद से इनकम टैक्स ईफाइलिंग पोर्टल पर login ​करिए।

जो पेज आपके सामने आता है उस पर मौजूद ‘’my account’’ tab पर जाइए। अब इस पेज पर मौजूद ‘’refund status’’ पर क्लिक ​करिए। इसमें आपके refund status का year-wise details online मिल जाएगा।

रिफंड स्टेटस के प्रकार और उनके मतलब
Meanings of ‘Refund Status’ and Step Forward


स्टेटस का प्रकार:Refund Paid

इसका मतलब है कि Income Tax Department पहले ही आपको tax refund कर चुका है। और refund banker ने आपके खाते में पैसा भेज दिया है, या फिर रिफंड का चेक या ड्राफट आपके पते पर भेजा जा चुका है। (as per the details provided in e-filing return)

आपको क्या करना है| What you need to do?

अपना बैंक एकाउंट चेक करें। उसके बैलेंस या स्टेटमेंट से आपको मौजूदा स्थि​ति का पता चल जाएगा। मान लिया कि आपका पैसा नहीं पहुंचा है तो क्या…

अगर payment direct credit/ ECS मोड से होने का विकल्प दिया गया था तो अपने बैंक से या State Bank of India से संपर्क करें। e-filing login में जो ECS reference number दिखा रहा है, उसे दिखाकर उनसे Error दूर करने का अनुरोध करें।

आप State Bank of India को इस संबंध में itro@sbi.co.in के Email Adress पर भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

आप उनसे Toll Free number 1800 425 9760 पर भी इस समस्या को दूर करने के लिए contact कर सकते हैं।

अगर आपने return फाइल करते समय payment mode चेक या डिमांड ड्राफट चुना था तो State Bank of India की ओर से स्पीड पोस्ट किए गए dispatch details दिखवा लें। इस dispatch details के आधार पर आगे आप खुद को भेजे गए speed post को track कर सकते हैं।

स्टेटस का प्रकार: No Demand No Refund

इसका म​तलब है कि refund के संबंध मेें जो आपने calculations किए हैं और जो Income Tax Department ने किए हैं, उनमें ​mismatch हो गया है। Income Tax Department की scrutiny में आपका कोई बकाया नहीं निकलता। इसलिए आप refund के लिए दावा नहीं कर सकते। इनकम टैक्स विभाग ने इसलिए आपका दावा खारिज कर दिया है।

आपको क्या करना है| What you to do?

एक ​बार फिर से चेक करिए कि आपने TDS and other investment details ठीक से भरे थे। उनके सपोर्ट में जरूरी दस्तावेज ठीक से पेश किए थे कि नहीं।

आपको लगता है कि विभाग के दावे से अलग आपका refund बनता है तो आप revise return दाखिल कर सकते हैं। इसमें आप उन deductions को ठीक से शामिल कर लें, जो पहली बार में चूक गए हों।

अपने refund को सही दिखाने के लिए एक rectification भी file करें। अपनी calculation के सपोर्ट में जरूरी सभी Documents भी जमा कर दें। जरूरी हो तो tax experts की मदद भी ले सकते हैं।

स्टेटस का प्रकार : No e-filing was done for the Assessment Year

या तो आपने अपना इनकम टैक्स रिटर्न income tax electronic format पर नहीं भरा है, या फिर आपके रिटर्न की e-filing successful न हुई हो। ध्यान दीजिए Income Tax Department उन रिफंड अनुरोधों के स्टेटस चेक के लिए ऑनलाइन सुविधा नहीं देता, जो​ कि physical format पर हुए हैं, electronic format पर नहीं।

आपको क्या करना है| What you to do?

अगर e-filing के unsuccessful होने का मामला हो तो आप return re-file कर सकते हैं।

अगर आपकी e-filing ठीक से पूरी हो गई थी तो आप इस संबंध में assessing officer से बात कर सकते हैं।

स्टेटस का प्रकार: Not Determined

इसका मतलब है कि आपके refund अनुरोध पर Income Tax Department की प्रक्रिया या तो शुरू नहीं हुई है या फिर scrutiny की प्रक्रिया जारी है।

आपको क्या करना है| What you to do?

कुछ और दिन इंतजार कर लें।

इसके बाद  refund status को चेक कर करें।

स्टेटस का प्रकार: Refund Determined and sent out to Refund Banker

इसका मतलब है कि आपका refund claim स्वीकार कर लिया गया है। Income Tax Department की ओर से इस संबंध में refund banker (State Bank of India) को भेजा गया है।

आपको क्या करना है| What you to do?

आप कुछ दिन अपने अकाउंट में refund credit होने का इंतजार कर सकते हैं।

refund payment का स्टेटस आगे जानने के लिए refund banker से संपर्क कर सकते हैं।

अगर वहां से भी प्रक्रिया शुरू हो चुकी है तो पेमेंट का tracking number ले सकते हैं। इसके आप उसके आगे बढ़ने की स्थितियों से update हो सकते हैं।

स्टेटस का प्रकार: Refund Unpaid

इसका मतलब है कि आपको refund भेज दिया गया है, लेकिन receive होने में कोई समस्या हुई है। इसके दो कारण हो सकते हैं…

अगर आपने पेमेंट मोड सीधे bank account में जमा होने का चुना था तो हो सकता है आप income tax return file करते समय सही bank account details न भर पाए हों।

अगर आपने Cheque or Demand draft का पेमेंट मोड चुना था तो हो सकता है कि आपने income tax return file करते समय अपना डाक पता सही न भरा हो।

आपको क्या करना है| What you to do?

आप अपने incometaxindiaefiling account में दोबारा से login करिए। बैंक अकाउंट डिटेल्स या आपके address आदि में जहां गलती हुई हो उसे सुधार दीजिए। इसके बाद दोबारा रिफंड के लिए ‘Refund reissue request’ पर क्लिक करके अनुरोध भेज दीजिए।

एक बार फिर से ध्यान दें, आप विभाग को correct bank account details भरें, जैसे कि account number, IFSC code, MICR code etc।

स्टेटस का प्रकार: Demand Determined

इसका मतलब है कि Income Tax Department की scruitiny में आपके उपर और ज्यादा टैक्स देनदारी निकल रही हैै। इसलिए आपका tax refund claim खारिज कर दिया गया है। department की तरफ से आपको इस संबंध में notification send किया जाएगा, जिसमें आप पर tax payable के डिटेल्स होंगे।

आपको क्या करना है| What you to do?

आपको जो notification भेजा गया है, उसका इंतजार करिए। उसे देखकर फैसला करिए कि असली समस्या क्या है। आप अपनी सूचनाओं को और विभाग की आपत्तियों को मिलान करके ​देखिए कि क्या ठीक है।

अगर कोई चूक हुई है तो सुधार दीजिए। अगर वास्तव में कोई देनदारी बच रही है तो विभाग की ओर से निर्धारित timeline में उसे जमा कर दीजिए।

अगर आपको लगता ​है कि e-filing request में आपकी ओर से कोई गलती नहीं हुई है तो income tax refund claim के सही होने के पक्ष में जरूरी information and documents के साथ rectification दाखिल कर दीजिए।

स्टेटस का प्रकार: Rectification Processed, Refund Determined and Details sent to Refund Banker

इसका मतलब है कि आपके original return में सुधार करके आपको सूचना भेजी गई है। या फिर जो आपने rectification दाखिल किया था उसे income Tax Department की ओर से स्वीकार कर लिया गया है। rectification के बाद विभाग की ओर से पुनर्गणना recalculation किया गया है। जो refund amount बना है उसे State Bank of India को पेमेंट करने के लिए भेज दिया गया है। आपको इस revised refund के संबंध में सूचना भी भेजी जाएगी।

आपको क्या करना है| What you to do?

अपना bank account चेक करिए। refund न आया हो तो कुछ दिन इंतजार कर लीजिए। ज्यादा दिन लग रहे हों तो bank से संपर्क करिए।

बैंक से अपने refund का ट्रैकिंग नंबर भी ले सकते हैं, ताकि उसके अगले स्टेटस की आपको जानकारी कर सकें।

स्टेटस का प्रकार: Rectification Processed and Demand Determined

इसका मतलब है कि आपको original return में सुधार के संबंध में सूचना दी गई थी या आपने rectification दाखिल किया था। इसके बाद ये notification बताता है कि आपका rectified return स्वीकार कर लिया गया है। हालांकि Income Tax Department की ओर से सूचना भेजी गई है कि आप पर अब भी टैक्स देनदारी बनती है, जिसे निर्धारित समयसीमा timeline के अंदर जमा कर दें।

आपको क्या करना है| What you to do?

आपने जो details दिए थे, उन्हें एक बा​र फिर से चेक कर लीजिए। बेहतर होगा कि विभाग के assessing officer से संपर्क करके उसमें सुधार के उपाय जान लीजिए।

अगर ​विभाग का निर्देश ठीक है तो समय पर अपनी टैक्स देनदारी जमा कर दीजिए।

स्टेटस का प्रकार:Rectification Processed, No demand and No Refund

इसका मतलब है कि आपको original return में बदलाव के बारे में सूचना दी गई थी या फिर आपने rectification दाखिल किया था। ये स्टेटस बताता है कि आपका rectified return स्वीकार कर लिया गया है। हालांकि इनकम टैक्स विभाग की ओर से निष्कर्ष पाया गया है कि आप पर न तो कोई टैक्स देनदारी बन रही है और न ही कोई आपका कोई रिफंड बनता है। उसके regarding आपको notification भी send किया जाएगा। जिसमें तथ्यों के साथ cleared भी होगा। कि ऐसा क्यों किया गया है।

आपको क्या करना है| What you to do?

notification का इंतजार करें और उसमें दिए गए तथ्यों और स्पष्टीकरण को समझ लें।

Conclusion- आज में इस post में आपने पढ़ा income tax return kaise claim kare , tds refund kaise file kare, आपको अपना इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते समय पूरी सावधानी से अपने व्यक्तिगत डिटेल्स और दस्तावेज जमा करने चाहिए। ताकि income tax refund या किसी विभागीय जांच की स्थिति में अनावश्यक परेशानी का सामना न करना पड़े। uc news 10% TDs return file करने की जानकारी चाहते है। तो कॉमेंट करें। 

Previous
Next Post »

thanks for visiting blog ConversionConversion EmoticonEmoticon