search engine kya hai aur kaise kam karata hai full guide 2019

search engine kya hai ? kaise kam karata hai full guide 2019 

सभी लोगो के मन मे एक सवाल जरूर आता होगा। ki search engine kya hai? Kaise kam karata hai(what is search engine and how to work ) आज के इस अर्टिकल में इसके बारे में जानकारी दी जाएगी।आज के समय में सभी लोग net का यूज कर रहे है। without net आप किसी social media का यूज भी नही कर सकते है। अगर आपके मन मे कोई सवाल आता है। तो लोग अक्सर यही कहते है google पर search कर लो। ऐसा होता है। यहां से हमे ज्यादातर अपने प्रश्नों का जबाब मिल जाता है। आप सोच सकते है कि इसका क्षेत्र कितना broad है।  

What is search engine in hindi 2019


अब हमें बहुत अपने प्रश्नों को search करना है। तो हम google की help लेते है। google एक सर्च engine है। ऐसे कई सर्च engine है। जैसे yahoo, bing, 
Baidu, AOL, Ask.com, Excite, DuckDuckGo. इत्यादि। लेकिन 80% यूजर  google सर्च इंजन का यूज करते है। यानी यह wolrd फेमस है। आज के इस post में इनके बारे में ही जानकारी प्राप्त करेंगे। 

Google earch Engine क्या है (What is Search Engine in Hindi 2019) 


Search Engine एक  तरह का प्रोग्राम होता है।  जो Internet के unlimited database से User द्वारा पूछे गए प्रश्नों( Keyword/Phrase ) को सर्च करके दिखाता है। कोई भी सर्च इंजन keywords के आधार पर search रिजल्ट show करता है।  यूजर के प्रश्नों से संबंधित जो भी  Information Search Engine (Google, Yahoo, Bing) को मिलती है उसको Search Result page में दिखता है। google search को world wide में करता है। अब आप सोच रहे होंगे। कि इतने सारे database कौन तैयार करता है। इस पूरे world में लाखों करोड़ों की संख्या में blogger है। जो विभिन्न विषयों पर कुछ न कुछ लिखते रहते है। आज के समय मे इसका क्षेत्र और भी व्यापक हो गया है। 
search engine kya hai aur kaise kam karata hai full guide 2019  

सभी blogger अपने blog को google search engine की directory में सबमिट करते है। तभी उनके ब्लॉग का सभी डेटा search में आता है। आज से 15 साल पहले blog बनाकर अपने knowledge को लोगो तक शेयर करना blogger का शौक था। लेकिन इसे आप अपना career बना सकते है। यानि कि blogger पर जानकारी शेयर करने के साथ ही आप पैसे भी कमा सकते है। आपके मन मे सवाल आया कि search engine क्या है। और आपने इसे गूगल में सर्च किया तो आपके सामने बहुत से result आ गए जिसमे से आप यह मेरा एक blog पढ़ रहे है। इस टॉपिक पर बहुत से blogger अपना article लिख चुके है। किसका blog सबसे ऊपर आएगा। यह seo करने के बाद और google algoritham के हिसाब से सेट होता है। यानी इस टॉपिक पर बहुत से ब्लॉग article लिखे जा चुके है। ये सभी सर्च engine की dairy में submit है। अब तो आप समझ गए होंगे। 

आपका जो सवाल है जैसे what is search engine इसी को INTERNET की भाषा में keyword कहा जाता हैं. तो जानते ये Search engine यानि Google, yahoo, Bing, कैसे work करते है. जो information search करते हैं उसका पुरा सही सही जवाब भी देता है तो देखते हैं  ऐसा कैसे होता है। 

Search Engine कैसे काम करता है

आप जो भी प्रश्न अपने browser के search engine के search में टाइप है, उनको Keywords कहा जाता है. अगर आप google में “what is search engine in Hindi 2019” लिखते है। तो इस keyword को world wide web(www) में ढूंडा जाता है. जब ये keyword किसी blog या website के title या article के content के साथ match करता है। तो उसको search result में दिखाता है। अब आप अपनी भाषा मे इस बात को अच्छे से समझ गए होंगे। अब कुछ टेक्निकल भाषा मे समझिए। 

कोई भी search engine तीन Steps में work करता है. सबसे पहले crawling, Indexing, Ranking & Retrieval
इन तीनों के बारे में कुछ विस्तार से जानते हैं.

Crawling

Crawling तातपर्य ढूंडने से है। इस process में किसी blog या website को scan करके उसके page का title क्या है, keywords की जानकारी, content में कितने keywords हैं, images और  page में  कितने link हैं इन सभी की जानकारी किसी भी सर्च इंजन के crawler करते है। अब अपने algorithm( नियम) के अनुसार उसे उसे इंडेक्स करते है। 

search engine crawler को Bots भी कहते हैं जो सभी नए और पुराने pages को search और scan करता हैं ये प्रतिदिन cores pages visit करते है. लेकिन हमारे या आप जैसे नहीं होते है। ये तेजी से read करते हैं.

Google के अनुसार ये bots 1 second में 100 से 1000 page को visit करते है. जब bots को कोई नया पेज मिलता है तो वो उसे Back-end processing (page title, meta tag, keywords, backlink, images, videos) के लिए भेज देता है. और फिर check करता है की इस पेज के साथ कितने पेज और link हैं.

जब भी कोई नया पेज मिलता है तो फिर वही process repeat होता रहता है. Crawling+backend processing+indexing. इसके बाद होता है page Indexing इसके बिना गूगल कभी भी सही search result नही दे सकता है।  लेकिन कुछ ऐसे भी website हैं जिनको आप TOR NETWORK के जरिये Search कर सकते है। 



Indexing

जब गूगल के bots किसी blog को crawl कर लेते है। तो उसकी indexing करते है। इस प्रोसेस के बाद ही google search के वह blog दिखाई देता है। आप indexing को इस प्रकार से समझ सकते है। यदि किसी क्लास में  10 language के singer student है। तो इस बात का पता लगाना crawling हुआ है। भाषाओं के आधार पर उनकी एक लिस्ट तैयार करने को इंडेक्सिंग कह सकते है। 


Google search bots या Google spider perday 3 trillion pages crawl करते है. इसका मतलब ये है की google के पास world में जितना Information है उन सभी की एक library है.
Google Search Engine data का बहुत बड़ा server है. जहाँ डाटा हजारों लाखों की संख्या में जो peta byte Drive हैं वहां Store किया जाता है.

Ranking and Retrieval क्या होता है 

search engine का ये वैसे वे last स्टेप है, लेकिन ये last step ही ज्यादा complex है. क्यूंकि जब आप कुछ google में search करते है। तो सबसे पहले search इंजन का काम ये है। कि जिस तरह की जानकारी को आप search कर रहे exact वही information आपको मिले. लोगों का search engine पर तभी भरोसा होगा।  जब वह user relevant content पता करे और निकाल कर दें।  इसके लिए google  कुछ Algorithm का इस्तेमाल करती है. जो algorithm कुछ parameters के मुताबिक work करते हैं. जिनमे से कुछ है content age, Content keyword, content पेज title.

page ranking के लिए google के अपने 200 factors है. जिनके द्वारा google  ये पता लगाता है।  कि search करने पर पेज GOOGLE HOME के किस position पर search result दिखना चाहिए। rank algorithm को समझ पाना बड़ा मुस्किल है. आपको बता दें। कि 1 billion web pages में से किसको google सर्च करके पहले पेज में show करता है. वैसे तो Ranking factors को hack करने के लिए बहुत सारे Hackers अपना दिमाग लगा रहें है.

पहले ranking का अंदाज़ा कितनी बार post में keyword इस्तेमाल किया गया है और backlink कितनी हैं इन सबसे बड़ी आसानी से site को rank कराया जा सकता था।  अब कुछ सालों से google ranking factors को search करना बड़ा ही मुस्किल चुका है. हर साल गूगल अपना algorithm change कर रहा है.क्योंकि Google उन sites को पहले आने का मोका देता है जो सच में मेहनत कर रहे हैं. कुछ इस तरह से इन तिन steps में search engine काम करता है.

History of Search Engine in Hindi  (Search Engine का इतिहास)

सभी सर्च engine का काम रहता है। सर्वर से डाटा सर्च करके display करना. सुरावती दिनों में Search ENGINE कुछ और नहीं बस एक File Transfer Protocol का collection था. जितने भी server एक दुसरे से connect थे उनमे से डाटा search करता था. तब के world wide web internet से जुड़ने का एक मात्र जरिया था. Search engine को इसलिए बनाया गया क्योंकि web server और file को locate करना इतना असान नहीं था

सबसे पहले वाला सर्च इंजन एक school का project था, जिसको बनाने वाले का नाम है Alan Emtage. जो 1990 में वो McGill University का student था. तो अब जानते हैं अलग अलग search engine इंजन कब और कैसे बने.

Excite

Excite का जन्म February 1993 हुआ था. Excite भी एक University का project था।  और उस project का नाम था Architext. इस project में 6 under graduate student थे. Stanford university का ये project 1995 तक आगे चलकर Crawling search engine का रूप ले लिया. इसमें काफी growth के कारण इसने Web-crawler और Magellan को भी इसने खरीद लिया. आखिर में इसने MSN और Netscape के साथ partnership कर ली। आज के समय मे इसका यूज नही होता है। 

Yahoo

इसका नाम तो अभी भी है, बहुत से लोग इसका यूज भी करते है। आपको बता दें। कि   इसका जनम 1994 में हुआ था. इसकी सुरुवात Stanford university में हुई थी. 1994 में Jerry Yang और David Fillo ने इसकी सुरुवात की थी. ये दोनों Electrical Engineering के Graduate Student थे. उन्होंने जब एक वेबसाइट बनाई जिसका नाम था “Jerry and David to guide to world wide web”. ये guide एक Directory थी। जो websites को organize करके रखता था. 1994 में यही Guide Yahoo का रूप ले लिया था. yahoo.com domain 18 January 1995 Registered हुआ था.

WebCrawler

ये एक Meta search engine है जिसका जन्म April 20 1994 में हुआ था. Google और yahoo दोनों के top result को ये show करता था. जिसमे आप audio, video, news को बड़ी आसानी से search कर सकते है. इसको बनाने वाले का नाम है Brian Pinkerton University Of Washington में.

Lycos

इसका भी जन्म 1994 में ही हुआ था. ये search के साथ साथ एक web portal की service देता है. Carnegie Mellon University से इसकी सुरुवात हुई. ये email , Web hosting, Social Networking और Entertainment websites की सेवा भी देता था.

Infoseek

Infoseek भी काफी प्रसिद्ध Search engine है जिसका जन्म 1994 में ही हुआ था, जिसके Founder थे Steve Kirsch. Infoseek को INFOSEEK corporation operate करता है. इसका Head quarter Sunnyvale, California है. इस company को The Walt Disney Company ने 1998 में खरीद लिया फिर ये बाद में yahoo के साथ जुड़ गई 

AltaVista

इसका जन्म 1995 में हुआ था. पहले के ज़माने में ये सबसे अधिक इस्तेमाल किये जाने वाले search engine थे।  2003 में इसको yahoo ने खरीद लिया. लेकिन Brand और services altavista के ही थे. लेकिन 2013 July में सारे services को yahoo ने बंद कर दिया और ये Yahoo search engine में redirect हो गई.

Inktomi

Inktomi का जन्म 1996 में हुआ था. इनके Founder थे UC Berkeley professor Eric Brewer और एक graduate Student जिनका नाम है Paul Gauthier. सुरुवात में ये भी एक search engine थी जिसको UNIVERSITY में Develop किया गया था.

Ask.com

इसका नाम तो आज भी है ASK.COM पहले Ask Jeeves था. इसका भी जन्म 1996 में हुआ था. ये एक question answer साईट है. जिसका ज्यादा  focus E-Business और web search engine पे था. इसके Founder का नाम है Garrett Gruener and David Warthen California से.

Google

वैसे आज के समय में Google एक अरबो खरबों की company है, जिसने Oxford Dictionary में खुद की जगह बना ली है, जो की एक क्रिया है. लेकिन इसको बनाने में दो PHD Students का हाथ था जिनका नाम है Sergey Brin और Larry Page जो की Stanford University, California के छात्र थे, 1995 में वे वहीँ पे आपस में मिले थे और वही से इस Search engine की सुरुवात हुई.

search engine kya hai aur kaise kam karata hai full guide 2019  

1996 में Sergey Brin और Larry Page जब PHD पढाई कर रहे थे वे अपना PHD का re Search project में कुछ अलग करने की सोची और वो सोचे थी यदि हम Website को Rank करें दुसरे website के साथ तुलना करके, तो काफी अच्छा होगा, उस वक्त उनका रैंक करने का तरीका ये था, जितनी बार Search किया गया शब्द उस webpage में होगा उस हिसाब से वो rank करगें। और यही कल्पना आज Google का रूप है. सुरुवात में उन्होंने इसका नाम BACKRUB दिया था. 1997- में दोनों ने Search engine का नाम “Google” रखा गया.


conclusion 

आज के इस पोस्ट में आपने पढ़ा search engine kya है। और kaise kam karata है।  
वैसे तो मेरी राय यही है की सबसे अच्छा search engine google ही है. अभी Image search, Voice Search, speech, google assistant जैसे बहुत से Latest Technology google के पास है. इसके साथ Google के search algorithm हर साल अच्छे हो रहे हैं. Search Engine क्या है (What is Search Engine in Hindi) और ये कैसे काम करता है इसके बारे में आप जान और समझ चुके है। इसके बाद भी आपके मन में कोई सवाल है। तो कॉमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। 



Previous
Next Post »

thanks for visiting blog ConversionConversion EmoticonEmoticon